IND vs AUS मुकाबले से पहले टीम इंडिया ने बदला ठिकाना-

Estimated read time 1 min read

27 नवंबर से वनडे सीरीज का आगाज करने जा रही है भारतीय क्रिकेट टीम

भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया दौरे पर तीन वनडे, तीन टी20 इंटरनेशनल और चार टेस्ट मैच खेलने हैं. दौरे की शुरुआत शुक्रवार को पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मुकाबले के साथ होगी जबकि टेस्ट श्रृंखला एडिलेड में 17 दिसंबर को शुरू होगी.

भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) 27 नवंबर से वनडे सीरीज का आगाज करने जा रही है. सिडनी के मैदान में ऑस्ट्रेलिया (Australia) से उसकी टक्कर होगी. मैच से पहले टीम की 14 दिन की क्वारंटीन की अवधि भी पूरी हो गई. ऐसे में टीम 26 नवंबर को दूसरे होटल में शिफ्ट हो गई और बायो बबल का हिस्सा बन गई.

कोरोना वायरस की वजह से खिलाड़ियों को अभी पहले जितना खुलापन नहीं मिल रहा है. खिलाड़ियों को कई सारी सुरक्षाओं के बीच रहना पड़ता है. भारत और ऑस्ट्रेलिया  (India vs Australia) के बीच पहले वनडे के दौरान दर्शक भी मौजूद रहेंगे. हालांकि दर्शकों की क्षमता कम ही रहेगी.

Indian Team

ट्रेनिंग में मिल पाते थे भारतीय खिलाड़ी

भारतीय टीम के खिलाड़ी और सहयोगी स्टाफ क्वारंटीन के दौरान सिडनी ओलिंपिक पार्क में ‘पुलमैन’ होटल में रुके थे. यहां वे सिर्फ मैदान पर ट्रेनिंग के दौरान मिल पाते थे. साथ ही खिलाड़ियों को एक-दूसरे के पीछे बैठने की इजाजत नहीं थी. खिलाड़ियों की आवाजाही के लिए कई बसों का इस्तेमाल होता था. दो हफ्ते का क्वारंटीन पूरा करने के बाद भारतीय टीम होटल इंटर कॉन्टिनेंटल में चली गई. भारतीय टीम ऑस्ट्रेलिया के अपने पिछले दौरों के दौरान यही पर रुका करती थी.

ALSO READ -  भाजपा ने टीएमसी पर लगाया आरोप, वोट डालने में बाधा डाल रहे गुंडे

अब एक दूसरे से मिल सकेंगे और खाना खाएंगे

बायो बबल के माहौल का हिस्सा बनने के बाद खिलाड़ियों को थोड़ी आजादी होगी. यहां वे कम से कम नियंत्रित माहौल में एक दूसरे से मिल सकते हैं और साथ खाना खा सकते हैं. यह कहना गलत नहीं होगा कि यूएई में आईपीएल में खेलने के दौरान लगभग तीन महीने बायो बबल के सुरक्षित माहौल में रहने के बाद सीधे यहां पहुंचे खिलाड़ियों के लिए 14 दिन का क्वारंटीन चुनौतीपूर्ण था. भारत के सीमित ओवरों के कप्तान लोकेश राहुल ने स्वीकार किया कि जब वह टीम के अपने साथियों के साथ ट्रेनिंग के लिए एक साथ आते हैं तो काफी बेहतर महसूस करते हैं.

राहुल ने कहा,कमरे में अकेले रहना चुनौती है. जब आप अभ्यास करते हो, टीम के अपने साथियों से मिलते हो, यह दिन का सर्वश्रेष्ठ समय है. आप एक साथ मजा करते हो. असली चुनौती तब होती है जब आप होटल में वापस आते हो और अकेले होते हो.

You May Also Like