Agra News ब्लैक का खेल शासन प्रशासन बेपरवाह ताज पर्यटक बेहाल सरकार को दखल देने की जरूरत-

Estimated read time 1 min read

ताजमहल पर टिकट का हो रहा गड़बड़झाला सैलानियों की मुसीबत बढ़ा रहा है। रविवार को एक भी टिकट बुक नहीं हो पाया। शनिवार रात में ही रविवार की सुबह और दोपहर के स्लॉट के सभी 5000 टिकट बुक हो चुके थे। ऐसे में रविवार को भारी भीड़ का अंदेशा था, लेकिन ताजमहल पर पर्यटक केवल 3839 ही आए। दरअसल, लपकों द्वारा रात में ही टिकट बुक कराने के बाद रविवार को 1161 टिकट बिक नहीं सके। ऐसे में ताजमहल पर रविवार को बिना टिकट बुक कराए आए सैलानियों को मायूस लौटना पड़ा।

रविवार को पहला मौका रहा, जब ताजमहल का एडवांस टिकट बुक कराए बिना आगरा आने वाले एक भी सैलानी को टिकट नहीं मिल पाया। शनिवार रात में ही सभी टिकट बुक हो चुके थे। ऐसे में सुबह और दोपहर के स्लॉट में सैलानी परेशान रहे। 

बेहाल पर्यटक

सुबह और दोपहर के स्लॉट में सैलानी परेशान रहे। पर्यटकों को टिकट उपलब्ध नहीं थे, जबकि पार्किंग और ताजमहल पश्चिमी गेट, पूर्वी गेट पर लपके ताज में प्रवेश का 50 रुपये का टिकट 300 और मुख्य गुंबद का 250 रुपये का टिकट 700 रुपये में बेच रहे थे। 

ब्लैक टिकटिंग के कारण ताज में सभी 5 हजार टिकट बिकने के बाद भी केवल 3839 सैलानी ही आ पाए। पर्यटन उद्यमियों का आरोप है कि टिकटों की बिक्री और प्रवेश पाने वाले सैलानियों के आंकड़े से स्पष्ट है कि बाकी टिकट लपकों ने बुक कराए थे जो बिक नहीं पाए।

प्रहलाद अग्रवालए अध्यक्ष, आगरा टूरिस्ट वेलफेयर एसो ने कहा कि मैने संस्कृति मंत्री को पूर्व में और रविवार को भी ताज पर टिकटों की कालाबाजारी रोकने के लिए कैपिंग हटाने की मांग की है। ताज पर सैलानियों के सामने आ रही मुश्किल दूर करने के लिए कोई उपाय न तो स्थानीय प्रशासन कर रहा है और न ही एएसआई। इससे पर्यटन उद्योग को बड़ा झटका लगेगा।

ALSO READ -  बंगाल सितलकुची में चुनाव आयोग के आदेश के बाद मतदान कराया गया बंद 

मनीष अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष, नेशनल चैंबर ने कहा कि अजीब हालात हो गए हैं पर्यटक ताज देखना चाहते हैं, लेकिन टिकट नहीं मिल रहा। वही 50 रुपये का टिकट पर्यटकों को 300 रुपये में खुलेआम बेचा जा रहा है, पर पुलिस कार्रवाई नहीं कर रही। इससे आगरा आने से पर्यटक तौबा कर लेंगे।

शकील चौहान, महासचिव, गाइड एसो ने कहा कि परिवार के साथ आ रहे पर्यटकों को टिकट नहीं मिल रहा। एक महीने से सभी आंखें बंद कर पर्यटन की दुर्दशा कर रहे हैं, पर कार्रवाई कोई नहीं कर रहा। इससे अच्छा था कि ताजमहल को फिर से बंद कर दिया जाए। कम से कम पर्यटक रोते हुए तो वापस नहीं जाएंगे। 

ताजमहल के ऑनलाइन टिकटों की व्यवस्था पर लपकों ने कब्जा कर लिया है। शायद यही वजह है कि हर रोज समय से पहले ही सभी टिकट बुक हो जाते हैं। इसके बाद लपके टिकटों की कालाबाजारी करते हैं। एक-एक टिकट पर 100 से 300 रुपये ज्यादा वसूलते हैं। इसकी वजह से हर रोज सैकड़ों पर्यटक ताजमहल को बिना देखे ही मायूस लौट रहे हैं। शनिवार की सुबह नौ बजे ही सुबह के स्लॉट के सभी 2500 और दोपहर के स्लॉट के  2500 टिकट बुक हो चुके थे। सुबह नौ बजे के बाद ताजमहल पर जो सैलानी एडवांस टिकट लिए बिना पहुंचे, उन्हें टिकट नहीं मिल पाया। ऐसे 1117 सैलानियों को मायूस लौटना पड़ा। 

ताजमहल पर शनिवार को पूरे पांच हजार टिकट बुक हुए थे, लेकिन शाम तक केवल 3983 पर्यटक ही प्रवेश कर पाए। निशुल्क प्रवेश वाले बच्चों की संख्या मिला लें तो 4448 सैलानियों ने ताजमहल का दीदार किया। लपकों द्वारा पहले ही टिकट बुक कर लिए जाने के कारण 1117 सैलानी ऐसे रहे जो टिकट न मिलने के कारण भटकते रहे और बिना ताज देखे मायूस लौटे। 

ALSO READ -  नक्सलियों का पुलिस पार्टी पर हमला, वायुसेना से भी ली गई मदद : महाराष्ट्र 

अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार ने कहा कि हमने पर्यटकों के सामने आ रही मुश्किलों के बारे में मुख्यालय को बता दिया है। टिकटों की कालाबाजारी रोकने के लिए हमने पुलिस से कहा है। लपकों पर अंकुश पुलिस ही लगा पाएगी।

आगरा गाइड एसोसिएशन के अध्यक्ष शमशुद्दीन के मुताबिक टिकटों की बुकिंग और ताज पर आने वाले सैलानियों की संख्या के अंतर से लपकों द्वारा टिकट बुकिंग का खेल स्पष्ट है। एएसआई को टिकटों पर नाम अंकित करने या आधार कार्ड नंबर डालने के बाद टिकट देने की व्यवस्था करनी चाहिए, या फिर 5 हजार टिकटों की कैपिंग हटा दी जाए। 

ताजमहल पर दोपहर बाद पुलिसकर्मी वीआईपी प्रवेश के नाम पर एएसआई कर्मचारी के साथ भिड़ गए। ताजमहल पर टिक ट सुबह ही खत्म हो गए थे। ऐसे में सैलानी बिना टिकट मायूस लौट रहे थे कि इस बीच पर्यटकों की नाराजगी के बीच पुलिसकर्मी वीआईपी मेहमान बताकर फ्री में प्रवेश कराने के लिए आए और फ्री में प्रवेश कराने के लिए अड़ गए। एएसआई कर्मचारी ने बिना टिकट प्रवेश से इंकार कर दिया, जिस पर काफी देर तक तड़काभड़की चलती रही। 

ताजमहल में एक महीने के अंदर 7500 से ज्यादा सैलानी ऐसे रहे जो ताजमहल पर पहुंचे तो टिकट न खरीद सके। शनिवार और रविवार को वीकेंड पर ताजमहल में दोपहर तक सभी टिकट फुल हो रहे हैं। हर सप्ताहंत पर 1500 पर्यटक वापस लौट रहे हैं। अकेले शनिवार को ही 1117 पर्यटक ताजमहल में कम पहुंचे, लेकिन टिकट पूरे 5000 बेचे जा चुके थे। 

You May Also Like