इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व उपाध्यक्ष की रहस्य बनी गुमशुदगी, CCTV में भी नहीं दिखे; बेड पर बंद पड़ा मिला मोबाइल-

Estimated read time 1 min read

इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष मंगला प्रसाद तिवारी (60) छोटा बघाड़ा से संदिग्ध परिस्थितियों में अभी तक लापता हैं। परिजनों ने उनकी तलाश आस-पास सहित रिश्तेदारों के यहां की। मगर उनका कहीं कोई पता नहीं चल सका। आखिरकार थक-हारकर परिजनों ने कर्नलगंज थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई हैे।

पड़ोसियों ने बताया आखिरी बार 25 दिसंबर को दिखे थे वकील मंगला प्रसाद तिवारी-

छोटा बघाड़ा के जिस किराए के घर में मंगला प्रसाद तिवारी रह रहे थे। उसके आस-पास के सीसीटीवी फुटेज को पुलिस ने खंगाल डाला है। मगर अभी तक कोई सुराग नहीं मिला है। पड़ोसी ने बताया कि आखिरी बार उन्हें 25 दिसंबर को देखा गया था। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने पुलिस पर उन्हें खोजने का दबाव बनाया। मगर अभी तक उनका कोई सुराग नहीं लग सका है। उनकी गुमशुदगी एक रहस्य बन गई है।

एसओ जार्जटाउन विश्वजीत सिंह ने बताया कि मंगला प्रसाद तिवारी के बेटे ने पांच जनवरी 2022 को अपने पिता की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। बेटे ने पुलिस को बताया था कि उसने पिता की काफी खोजबीन की, लेकिन अभी तक कोई सुराग नहीं लग सका है। आस-पास के सीसीटीवी फुटेज में भी वो कहीं नहीं दिखाई दिए। उन्हें आखिरी बार 25 दिसंबर को देखा गया था।

परिजनों से आखिरी बार 3 दिसंबर को की गई थी बात-

अधिवक्ता मंगला प्रसाद तिवारी अपनी पत्नी व बच्चों के साथ छोटा बघाड़ा में किराए के मकान में रहते थे। इधर दो महीनों से उनका परिवार जौनपुर अपने गांव गया हुआ था। कॉल डिटेल खंगालने पर पता चला कि उनकी आखिरी बार 3 दिसंबर को बात हुई थी। इसके बाद कोई बात नहीं हुई।

ALSO READ -  बिहार विधानसभा में आज नेताओं के बीच जमकर हुई धक्कामुक्की

बेड पर बंद पड़ा था मोबाइल फ़ोन-

परेशान होकर उनका बेटा जब छोटा बघाड़ा घर पहुंचा तो बाहर से ताला लगा था। ताला तोड़कर अंदर देखा गया तो मंगला प्रसाद तिवारी का मोबाइल बेड पर पड़ा मिला। फोन बंद था। मंगला प्रसाद की बहुत खोजबीन की गई जब कोई पता नहीं चला तो पांच दिसंबर को उनकी गुमशुदगी दर्ज कराई गई थी।

किसी से भी नहीं थी कोई दुश्मनी-

एसओ जार्जटाउन ने बताया कि मंगला प्रसाद तिवारी के परिजनों ने बताया है कि उनकी किसी से कोई रंजिश नहीं थी। छोटा बघाड़ा में वह अकेले रह रहे थे। उनके परिजन गांव गए थे। वह पूरी तरह से स्वस्थ भी बताए जाते हैं। घर-परिवार में भी कोई विवाद नहीं है। ऐसे में अचानक से मंगला प्रसाद तिवारी कहां चले गए यह रहस्य का विषय बन गया है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष अमरेंद्र सिंह ने कहा कि मामले में पुलिस अधिकारियों से बात की है। मंगल प्रसाद तिवारी का गायब होना बार एसोसिएशन के लिए हतप्रभ कर देने वाला है। जल्द ही पुलिस अधिकारियों से फिर से मिलकर मामले की गहन छानबीन कराए जाने और उनकी बरामदगी की कोशिश की जाएगी।

You May Also Like