किसान आंदोलन को तेज़ी देने के लिए सोनीपत में आज बैठक, आंदोलन में नहीं शामिल होने वाले किसानों पर 2100 रूपए का होगा जुर्माना 

Estimated read time 1 min read

74 दिनों के लम्बे समय से कृषि कानूनों के विरोध में चल रहा किसान आंदोलन अब और आगे बढ़ने की और अग्रसर हो रहा है। आपको बतादें की चक्का जाम के बाद आगे की रणनीति बनाने के लिए किसान संगठनों ने आज सोमवार सुबह सोनीपत में बैठक की है। जिसमें सरकार पर दबाव बनाने और आंदोलन को तेज करने की रणनीति तैयार की जायेंगीं। और साथ ही  साथ ही पूरे देश में एक साथ आंदोलन खड़ा करने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। रविवार को बहादुरगढ़ के टीकरी बॉर्डर पर दो और ढांसा बॉर्डर एक किसान की मौत हो गई। इतना ही नहीं बल्कि टिकरी बॉर्डर पर भी किसान ने आत्महत्या की। 

टिकरी बॉर्डर पर जींद के किसान ने पार्क में पेड़ से फंदा लगाकर खुदकुशी की है. बॉर्डर एरिया में ही पंजाब के दो किसानों की हार्ट अटैक से मौत हो गई।जिसके बाद किसान अब और ताकतवर तरीके से आगे आने की योजना बना रहे हैं। जिस कड़ी में जलालाबाद  के गांव चक जंड वाला की ग्राम पंचायत ने एक प्रस्ताव पारित कर फैसला लिया है कि गांव के प्रत्येक घर से एक व्यक्ति दिल्ली धरने में जाएगा। दिल्ली नहीं जाने वाले को 2100 रुपये का जुर्माना देना होगा। जो पंचायत के फैसले को नहीं मानेगा, उसके खिलाफ पंचायत सख्त कार्रवाई करेगी।

ALSO READ -  पुष्कर सिंह धामी ने इग्यारह मंत्रियों के साथ उत्तराखंड CM के रूप में शपथ लिया-

You May Also Like