श्रमिकों को बेहतर चिकित्सा सेवाएं उपलब्ध कराने के लिए सरकार कृतसंकल्पित, ईएसआईसी (ESIC) की मजबूत पहल-

Estimated read time 1 min read

ND : श्रम और रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), श्री संतोष कुमार गंगवार की अध्यक्षता में कल कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी) की आयोजित 183वीं बैठक के दौरान कामगारों के लिए चिकित्सा सेवाओं और अन्य लाभों के वितरण में सुधार के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं।

ईएसआई योजना के तहत बीमित श्रमिकों और उनके आश्रितों को चिकित्सा सेवाएं मुख्य रूप से राज्य सरकारों द्वारा संचालित अस्पतालों और औषधालयों के माध्यम से प्रदान की जाती हैं। वर्तमान में, देश भर में लगभग 1520 ईएसआई डिस्पेंसरी और 159 अस्पताल हैं, जिनमें से 45 डिस्पेंसरी और 49 अस्पताल सीधे ईएसआईसी द्वारा संचालित हैं जबकि शेष डिस्पेंसरी और अस्पताल संबंधित राज्य सरकारों द्वारा चलाए जा रहे हैं। खराब उपकरणों और डॉक्टरों की कमी के कारण राज्य सरकारों द्वारा संचालित ईएसआई अस्पतालों के बारे में कई प्रतिरूप प्राप्त हुए हैं।

श्रमिकों और कर्मचारियों दोनों की मांग के साथ लाभार्थियों को बेहतर चिकित्सा सेवाएं प्रदान करने के उद्देश्य से 07.01.2020 को आयोजित बैठक में ईएसआई कॉरपोरेशन ने सभी नवनिर्मित अस्पतालों को सीधे चलाने का निर्णय लिया है जिन्हें भविष्य में अनुमोदित नहीं किया गया है सिवाय जब तक कि राज्य सरकार अस्पताल चलाने के लिए स्वयं जोर न दे।

हाल के वर्षों में ईएसआई कवरेज में विस्तार और कई क्षेत्रों में ईएसआई के कमजोर बुनियादी चिकित्सा ढांचे को ध्यान में रखते हुए, ईएसआई निगम ने अब फैसला किया है कि जिन क्षेत्रों के 10 किलोमीटर के दायरे में ईएसआई का बुनियादी ढांचा उपलब्ध नहीं है, वहां पर लाभार्थी सीधे ओपीडी सेवाओं में चिकित्सकीय परामर्श के लिये ईएसआईसी औषधालयों या अस्पताल से रेफरल के बिना ईएसआईसी सूची में सम्मिलित किसी अस्पताल या आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभ उठा सकते हैं। ऐसे मामलों में यदि भर्ती कर उपचार की आवश्यकता होती है, तो सूचीबद्ध अस्पताल ईएसआई अनुमोदित प्राधिकारी से ऑनलाइन प्रणाली के माध्यम से समयबद्ध अनुमति प्राप्त करेगा।

ALSO READ -  सरकारी स्कूल हटाकर शापिंग मॉल: छात्र के लेटर पर उच्च न्यायलय ने मुख्य सचिव को दिया नोटिस-

दिल्ली / एनसीआर में चुनिंदा ईएसआईसी अस्पतालों में नेफ्रोलॉजी, यूरोलॉजी और ऑन्कोलॉजी सहित कार्डियोलॉजी में सुपर स्पेशियलिटी सेवाओं को मजबूत किया जाएगा और इसे चरणबद्ध तरीके से पूरे देश में अन्य ईएसआईसी अस्पतालों तक बढ़ाया जाएगा।

ईएसआईसी देश भर के ईएसआईसी अस्पतालों में रखरखाव, हाउसकीपिंग, रोगी सहायता, रोगी सुरक्षा और अन्य सहायक गतिविधियों के लिए अस्पताल प्रबंधन या अस्पताल प्रशासन या स्वास्थ्य देखभाल प्रशासन में विशेषज्ञता के साथ अस्पताल प्रबंधकों को संलग्न करेगा।

ईएसआईसी अवधारणा योजना के चरण से लेकर परियोजना के चालू होने तक अस्पताल और डिस्पेंसरी निर्माण परियोजनाओं के निष्पादन और निगरानी की सुविधा के लिए परियोजना प्रबंधन सलाहकार की सेवाओं को भी संलग्न करेगा।

कर्मचारी राज्य बीमा निगम ने अटल बीमित व्यक्ति कल्याण योजना के तहत लॉकडाउन के कारण बेरोजगार होने वाले बीमित श्रमिकों को छह महीने यानी 30 जून, 2021 तक की अवधि के लिए अधिकतम 90 दिनों तक औसत वेतन के 50 फीसदी के बराबर राहत देने का फैसला किया है। साथ ही इस योजना को आगे बढ़ाने का भी निर्णय लिया गया है। पात्र कर्मी अपने दावे ईएसआईसी पोर्टल (www.esic.in) पर मोबाइल नंबर, आधार और बैंक विवरण के साथ दर्ज कर सकते हैं।

You May Also Like