ATM यूज़र्स सावधान, एटीएम क्लोन गिरोह सक्रिय-

Estimated read time 1 min read

DCP क्राइम नोएडा ने बताया की नोएडा पुलिस द्वारा एक ATM क्लोनिंग करने वाले गैंग के बारे में जानकारी मिली थी। मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके पास एक लैपटॉप, ATM में लगाने का उपकरण और 2,50,000 रुपये बरामद किए गए।

अगर आप ATM से रुपए निकालने जा रहे हैं तो बेहद सावधान हो जाइए। यदि ATM मशीन खराब हो या फिर कोई अन्य व्यक्ति रुपए निकालने को कहे तो उन्हें अपना एटीएम कार्ड कतई न दें। हो सकता है कि वो व्यक्ति आपके बैंक बैलेंस को पूरी तरह से बिगाड़ दे।

ये गिरोह ATM मशीन में उपकरण लगाकर कार्ड की डिटेल कॉपी करके नया कार्ड क्लोन करते थे। गिरोह एटीएम रूम की छत पर एक खुफिया कैमरा फिट कर देता है। इस कैमरे की मदद से उपभोक्ता के पिनकोड को कैप्चर कर लिया जाता है। एटीएम का कोड पता चलते ही गिरोह कार्ड का क्लोन तैयार करने में जुट जाता है।

ATM गिरोहों द्वारा कैसे तैयार होता है एटीएम का क्‍लोन

क्‍लोन एटीएम से खाता खाली करने वाला गिरोह ज्‍यादातर सुनसान इलाकों में मौजूद एटीएम को अपना निशाना बनाते हैं। पहले एटीएम मशीन के कार्ड स्वैपिंग स्लॉट पर एक विशेष मैगनेटिक डिवाइस लगा दी जाती है। यह डिवाइस एटीएम कार्ड के बारकोड और चिप की सारी इंफॉर्मेशन को कॉपी कर लेती है। साथ ही डिवाइस में कार्ड का ब्लूप्रिंट तैयार हो जाता है। इसके अलावा एटीएम मशीन के कीपैड को सीपीयू और कार्ड रीडर से जोड़कर भी एटीएम की क्लोनिंग की जाती है। इसके बाद सॉफ्टवेयर की मदद से एटीएम का क्लोन तैयार कर लिया जाता है।

ALSO READ -  बैंक ऑफ़ बड़ौदा ने सोशल मीडिया प्लेटफार्म व्हाट्सप्प पर शुरू की अपनी बैंकिंग सेवाएं

You May Also Like