ममता के मंत्री फिरहाद हक़ीम की बढ़ीं मुश्किलें,नारदा मामले में चलेगा केस

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने ले बाद आज उन्होने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार करते हुए 43 विधायकों को कैबिनेट और स्वतंत्र प्रभार मंत्री बनाया है। बता दें कि इस बार के मंत्रीमण्डल में कुछ पुराने चेहरों के साथ नए चेहरों को भी शामिल किया गया है। वहीं इस बार भी ममता की कैबिनेट में शामिल हुए पूर्व मंत्री फिरहाद हक़ीम की मुश्किलें मंत्री बढ़ती दिख रहीं हैं है। मंत्रियों के शपथग्रहण समारोह के कुछ देर बाद ही राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने नारदा स्टिंग मामले में पूर्व मंत्रियों और टीएमसी के शीर्ष नेताओं पर केस चलाने की इज़ाज़त दे दी है , इन्ही नामों में मंत्री फिरहाद का नाम भी शामिल हैं।

बता दें कि नारदा मामले की जांच सीबीआई ने पूरी कर ली है। राज्य पाल की इस मंज़ूरी के बाद टीएमसी और भाजपा नेताओं में बयानबाज़ी शुरू हो गई है,टीएमसी नेताओं का कहना है की नारदा मामलें में भाजपा विधायक शुभेन्दु अधिकारी का नाम भी था लेकिन उनके खिलाफ केस की अनुमति नहीं दी गई है। वहीँ शपथ ग्रहण के बाद फिरहाद हकीम ने पत्रकारों से कहा कि मुझे ख़ुशी है कि केस की सुनवाई कोर्ट में होने जा रही है और मुझे देश की न्यायपालिका और न्यायव्यवस्था पर पूर्ण विश्वास है , मुझे जल्दी ही मामलें में क्लीन चिट मिल जायेगी।

ALSO READ -  18 फरवरी को पूरे देश में किसान संगठनों का 'रेल रोको आंदोलन'

You May Also Like