Filmy Bate – वाजिद खान की पत्नी ने साझा किया ‘इंटरकास्ट मैरिज’ का दर्द, धर्म बदलने के लिए किया गया प्रताड़ित

Estimated read time 1 min read

वाजिद खान की पत्नी ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर ऐंटी कन्वर्जन लॉ पर लंबा पोस्ट लिखा है। ‘इंटरकास्ट मैरिज’ की वजह से उन्होंने जो दर्द झेला उसका जिक्र किया है। कमालरुख ने अपने नोट में लिखा है कि वह और वाजिद कॉलेज में साथ पढ़ते थे। शादी के पहले दोनों की 10 साल कोर्टशिप चली। कमालरुख पारसी और वह मुस्लिम थे। उन्होंने प्यार की वजह से स्पेशल मैरिज ऐक्ट के तहत शादी की थी।

इन दिनों देशभर में लव जिहाद और धर्मांतरण विरोधी कानून को लेकर चर्चा हो रही है। ऐसे में इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए वाजिद खान की पत्नी कमालरुख खान ने अपनी प्रेम कहानी और उनके परिवार के साथ अपने खराब संबंधों को याद किया और भावुक पोस्ट लिखा है। उन्होंने अपने पोस्ट में लिखा, ‘एक बार फिर से धर्मांतरण पर चर्चा हो रही है। इस बार सरकार भी उत्साहित है। इसके बाद कमालरुख खान ने अपनी और वाजिद खान की प्रेम कहानी और उनके परिवार के बारे में विस्तार से लिखा है।

कमालरुख खान ने लिखा, ‘मेरा नाम कमालरुख खान है और मैं दिवंगत संगीतकार वाजिद खान की पत्नी हूं। उनसे शादी करने से पहले मैं उनके साथ 10 साल के रिश्ते में थी। मैं पारसी और वह मुसलमान थे। हम वही थे जिसे आप “कॉलेज स्वीटहार्ट्स” कहेंगे। हमने विशेष विवाह अधिनियम के तहत शादी की। यही कारण है कि धर्मांतरण विरोधी बिल की बहस के बीच यह बहुत दिलचस्प है। मेरी परवरिश ऐसे पारसी परिवार में हुई है जहां सभी लोग पढ़े-लिखे और खुलकर लोकतांत्रिक तरीके से अपनी बात कह सकते हैं।’

ALSO READ -  52 वर्षीय नेपाली पर्वतारोही ने 25वीं बार माउंट एवरेस्ट पर चढ़ाई कर बनाया रिकॉर्ड

कमालरुख खान ने आगे लिखा, ‘हालांकि, शादी के बाद यही स्वतंत्रता, शिक्षा और लोकतांत्रिक मूल्य प्रणाली मेरे पति के परिवार के लिए सबसे बड़ी समस्या बन गई थी। उन्होंने पढ़ी-लिखी और आजाद महिला को स्वीकार नहीं किया और धर्मांतरण का दबाव बनाने लगे। मैं हर किसी धर्म का सम्मान करती हूं, लेकिन इस्लाम में परिवर्तित होने के मेरे प्रतिरोध ने मेरे और मेरे पति के बीच की दूरियों को काफी बढ़ा दिया था। यहां तक कि इतना मुश्किल हो गया था कि हमारे पति-पत्नी के रिश्ते खराब हो गए।’

कमालरुख खान आगे लिखती हैं, ‘मेरी गरिमा और स्वाभिमान ने मुझे इस्लाम में परिवर्तित होने और उनके परिवार के लिए झुकने की अनुमति नहीं दी। मैं तबाह हो गई थी, धोखा महसूस किया और भावनात्मक रूप से टूट गई, लेकिन मैंने और मेरे बच्चों ने सब्र किया।’ अपनी पोस्ट में कमालरुख खान ने यह भी खुलासा किया है कि वाजिद खान के निधन के बाद भी दिवंगत संगीतकार के परिवार का उत्पीड़न जारी है।

You May Also Like