करदाता की पंजीकृत ईमेल आईडी पर IT Act U/S 148A(b) के तहत जारी किया गया नोटिस, महज औपचारिकता ही नहीं क्षेत्राधिकार की आवश्यकता भी है- इलाहाबाद हाईकोर्ट

Estimated read time 1 min read

इलाहाबाद उच्च न्यायालय लखनऊ बेंच ने पाया कि आयकर अधिनियम की धारा 148ए (बी) के तहत एक निर्धारिती की पंजीकृत ईमेल आईडी पर जारी किया गया नोटिस एक न्यायिक आवश्यकता थी और कोई खाली औपचारिकता नहीं थी।

याचिकाकर्ता एक निजी कंपनी थी जो होटलों के विकास और प्रबंधन में लगी हुई थी। कंपनी को आयकर विभाग के पोर्टल पर पंजीकृत अपने पिछले मेल पते पर आयकर अधिनियम, 1961 (अधिनियम) की धारा 148-ए (डी) के तहत एक नोटिस प्राप्त हुआ। इसकी एक प्रति कंपनी की दूसरी ईमेल आईडी पर भेजी गई।

न्यायालय को यह निर्धारित करना था कि क्या कंपनी द्वारा उपलब्ध कराई गई ईमेल आईडी को आयकरअधिनियम की धारा 144बी के तहत एक पंजीकृत ईमेल आईडी माना जा सकता है।

न्यायमूर्ति विवेक चौधरी और न्यायमूर्ति ओम प्रकाश शुक्ला की खंडपीठ ने कहा, “यदि निर्धारिती का पंजीकृत ईमेल पता (ए) निर्दिष्ट पोर्टल में पंजीकृत पते वाले के ई-फाइलिंग खाते या (बी) पिछले आयकर से निर्धारित नहीं किया जा सकता है प्रस्तुत रिटर्न, या (सी) प्राप्तकर्ता से संबंधित स्थायी खाता संख्या डेटा बेस से या (डी) कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट से, आदि तभी प्राधिकरण द्वारा उपलब्ध कराए गए किसी भी ई-मेल पते का सहारा ले सकता है।”

याचिकाकर्ता का प्रतिनिधित्व अधिवक्ता मनीष मिश्रा ने किया, जबकि ए.एस.जी.आई. उत्तरदाताओं की ओर से कुशाग्र दीक्षित उपस्थित हुए।

न्यायालय ने कंपनी की दो ईमेल आईडी के अस्तित्व पर ध्यान दिया और किसी भी ईमेल पते को पंजीकृत ईमेल पते के रूप में मानने के लिए अधिनियम के तहत प्रदान किए गए विकल्पों पर चर्चा की।

ALSO READ -  इलाहाबाद उच्च न्यायालय: फर्म का सर्वे किया गया व्यावसायिक स्थान नहीं मिला, इसलिए 'फर्म फर्जी' कहना 'जीएसटी पंजीकरण' रद्द करने को उचित नहीं ठहराता

आयकर विभाग द्वारा याचिकाकर्ता को इनकम टैक्स एक्ट धारा 148ए(बी) के तहत एक नोटिस इस आधार पर जारी किया गया था कि धारा 56(2)( के अनुसार संपत्ति की बिक्री/खरीद के लिए उक्त मूल्यांकन वर्ष के दौरान भारी वित्तीय लेनदेन हुआ था। x) अधिनियम का।

कंपनी ने तर्क दिया कि अधिकारियों द्वारा उन्हें नोटिस की सेवा कानूनी रूप से नहीं दी गई थी।

न्यायालय ने माना कि कंपनी द्वारा प्राधिकरण को उपलब्ध कराया गया ई-मेल आईडी कर उद्देश्यों के लिए कंपनी का पंजीकृत ई-मेल पता था।

अदालत ने अपने टिप्पणी में कहा की “अधिनियम, 1961 की धारा 148 ए (बी) के तहत निर्धारिती की पंजीकृत ईमेल आईडी पर जारी किया गया नोटिस एक खाली औपचारिकता नहीं है क्योंकि निर्धारिती पर नोटिस जारी करना और इस तरह के नोटिस की सेवा करना अधिकार क्षेत्र की आवश्यकता है जिसका अनिवार्य रूप से पालन किया जाना चाहिए। क्योंकि यह अधिनियम, 1961 की धारा 148 के तहत नोटिस जारी होने से पहले ही प्राप्तकर्ता को अपने उत्तर से मूल्यांकन अधिकारी को संतुष्ट करने का अवसर प्रदान करता है”।

तदनुसार, उच्च न्यायालय ने याचिका को आंशिक रूप से स्वीकार कर लिया।

वाद शीर्षक – जीआरएस होटल प्रा. लिमिटेड एलको. बनाम भारत संघ एवं अन्य।

You May Also Like