फर्जी शपथ पत्र मामले में एडीजे ने वकील को दी थी चेतावनी, कार से कचहरी आ रहे अपर जिला दंडाधिकारी पर हमला, वकील गिरफ्तार

Estimated read time 1 min read

हमीरपुर में अपर जिला दंडाधिकारी पर एक वकील के हमले का मामला सामने आया है। एडीजे की ओर से वकील को फर्जी शपथ पत्र मामले में चेतावनी दी गई थी। इससे वह नाराज हो गया था। कार से ऑफिस आ रहे जज पर हमले को सुरक्षाकर्मियों ने विफल कर दिया। वकील को गिरफ्तार किया गया है।

हमीरपुर उत्तर प्रदेश से आई इस घटना ने सभी को चौंका दिया। यहां एक वकील ने ADJ पर ही जानलेवा हमला कर दिया है। जज पर हुए हमले से हड़कंप मच गया है।जज की तहरीर पर पुलिस ने आरोपी वकील के खिलाफ गंभीर धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने वकील को गिरफ्तार भी कर लिया है।

ज्ञात हो कि पुलिस ने आरोपी वकील को अरेस्ट करके उसे जेल भेज दिया है। दूसरी तरफ वकील की हरकत को देखते हुए वकीलों के संगठन ने उसे संगठन से बाहर भी निकल दिया है। बता दें कि वकील ने जज पर ये हमला उस समय किया, जब वह कार से कोर्ट आ रहे थे।

वकील ने किया अपर जिला दंडाधिकारी पर जानलेवा हमला-

गौरतलब हो की ये पूरा मामला हमीरपुर जिले की कोर्ट से सामने आया है। यहां जिला अदालत में बीते शनिवार की सुबह एक वकील ने ADJ (एफटीसी द्वितीय) पर हमला कर दिया। घटना तब हुई जब ADJ कार से कोर्ट जा रहे थे। अचानक हुई इस घटना से कचहरी परिसर में अफरा-तफरी मच गई। ADJ को चालक और अन्य सुरक्षा कर्मियों ने बचाया।

ALSO READ -  प्रशांत भूषण दुनिया को सफलतापूर्वक बता रहे हैं कि वह भारत विरोधी हैं, अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का दुरुपयोग कर रहे हैं: बीसीआई

प्राप्त जानकारी के मुताबिक, शनिवार की सुबह 10 बजे के आसपास कचहरी के गेट नंबर दो के पास ADJ (एफटीसी द्वितीय) सुदेश कुमार जैसे ही कार से पहुंचे, वैसे ही बीच रास्ते में वकील रामदास सविता ने अपनी बाइक लगाकर ADJ की कार रोक ली। कोई कुछ समझ पाता, इतने में ही आरोपी वकील ने जज को कार से बाहर खींच लिया और उनका गला दबाने की कोशिश करने लगा। ये देख वहां हड़कंप मच गया। जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों और कर्मचारियों ने फौरन किसी तरह से जज को बचाया। इस दौरान अन्य वकील भी मौके पर पहुंच गए और हमलावर वकील रामदास को काबू में करके अलग किया।

मामले की जानकारी जैसे ही पुलिस को मिली, पुलिस विभाग में भी हड़कंप मच गया। पुलिस ने आरोपी वकील को गिरफ्तार कर लिया और कई संगीन धाराओं में उसके खिलाफ केस दर्ज भी किया। बार संघ ने भी वकील के इस व्यवहार की निंदा करते हुए उसे संगठन से निकाल दिया है।

ADJ से नाराज था वकील-

मिली जानकारी के मुताबिक, ADJ ने कोतवाली में दी गई तहरीर के हवाले से बताया कि वकील ने NDPS के मामले में एक अपराधी की जमानत में फर्जी शपथपत्र लगाया था। मामला खुलने पर उन्होंने उसे फर्जी काम करने पर कार्रवाई की चेतावनी दी थी। इसी वजह से वकील नाराज था और आज उसने इस घटना को अंजाम दे डाला।

पुलिस ने अपर जिला दंडाधिकारी पर हमले को लेकर क्या बताया-

इस पूरे मामले पर SP दीक्षा शर्मा ने बताया, “अपर जिला जज के ऊपर जानलेवा हमले में आरोपी वकील के खिलाफ संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। वकील को गिरफ्तार कर लिया गया है। वकील रामदास सविता को जेल भेजा जा रहा है।

You May Also Like